डेस्क: हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए सबसे पहले हमें अपने इम्यूनिटी को अच्छा बनाना है, जिससे हमारा शरीर हर बीमारी से आसानी से लड़ सके। ऐसे में सरकार ने एक नया अभियान शुरू किया है,जिसमें आयुष मंत्रालय ने देश के 75 लाख लोगों को उनकी प्रतिरक्षा-वृद्धि वाली जीवन शैली को बेहतर बनाने के लिए इस अभियान से लाभ मिलेगा। इस रविवार को सरकार ने आयुष प्रोफिलैक्टिक मेडिसिन (Ayush Prophylactic Medicines) की तरफ से आहार और जीवन शैली पर लिखित दिशा-निर्देशों और आयुष रोगनिरोधी दवाओं को घर-घर जाकर वितरित करेगी।

PHDCCI के वरिष्ठ उपाध्यक्ष -प्रदीप मुल्तानी ने जानकारी देते हुए कहा, “यह एक अच्छा कदम आरंभ किया गया जो प्रतिरक्षा-वृद्धि वाली जीवन शैली को बेहतर बनाने के लिए अहम भूमिका निभाएगी। कोरोना महामारी ने हर उम्र दराज़ को अपने प्रकोप से प्रभावित किया है। इस समय में, मुख्य रूप से बुजुर्गों और सीमावर्ती श्रमिकों के इम्युनो-कॉम्प्रोमाइज्ड ब्रैकेट पर विशेष ध्यान देना जरुरी है। यह अभियान 2 सितंबर को आयुष मुंजपारा महेंद्रभाई राज्य मंत्री (MoS) और केंद्रीय मंत्री आयुष सरबनंद सोनोवाल द्वारा शुरू किया गया था।

75 लाख लोगों को मिलेगा इस अभियान का लाभ

सरकार ने इस अभियान के तहत, अगले एक वर्ष में प्रतिरक्षा बूस्टर दवाओं और COVID-19 से निपटने के लिए इन उपायों को ध्यान में रखकर तैयारियाँ की गई हैं। आयुष मंत्रालय ने अपने लिखित दिशानिर्देशों में देश भर के 75 लाख लोगों के बीच इन दवाओं का वितरण करेगी। इस अभियान में 60 साल या उससे ज्यादा उम्र के लोगों और फ्रंटलाइन वर्कर्स पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

ये औषधीय पौधे हैं शामिल

गिलोय, स्टीविया, जटामांसी, सर्पगंधा, अश्वगंधा, तेजपत्ता, तुलसी, लेमनग्रास, आंवला, गुग्गुलु, एलोवेरा, शतावरी, कालमेघ, ब्राह्मी और अशोक शामिल हैं। आपको बता दें कि इस महोत्सव की शुरुआत भोपाल के शासकीय आयुर्वेदिक महाविद्यालय के हर्बल गार्डन से की जाएगी।

अधिक जानकारी के लिए The KalamBai को फॉलो करें और अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर दें